27 June 2022

bebaakadda

कहो खुल के

मशरूम की खेती क्यों?

 6,574 

मशरूम की खेती क्यों?

by- सत्यम ब्रह्मचारी

विश्व में मशरूम की खेती हजारों वर्षों से की जा रही है, जबकि भारत में मशरूम के उत्पादन का इतिहास लगभग तीन दशक पुराना है। हमारे देश में मशरूम का उपयोग भोजन व औषधि के रूप में किया जाता है। प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, खनिज लवण और विटामिन जैसे उच्च स्तरीय खाद्य मूल्यों के कारण मशरूम सम्पूर्ण विश्व में अपना एक विशेष महत्व रखता है। भारत में मशरूम को खुम्भ, खुम्भी, भमोड़ी और गुच्छी आदि नाम से जाना जाता है। देश में बेहतरीन पौष्टिक खाद्य के रूप में मशरूम का इस्तेमाल किया जाता है। इसके अलावा मशरूम के पापड़, जिम का सप्लीमेन्ट्री पाउडर, अचार, बिस्किट, टोस्ट, कूकीज, नूडल्स, जैम (अंजीर मशरूम), सॉस, सूप, खीर, ब्रेड, चिप्स, सेव, चकली आदि बनाए जाते हैं। ये सभी उत्पाद ऑनलाइन भी प्राप्त किए जा सकते हैं।

बढ़ती जनसँख्या, भूमि विभाजन, कुपोषण, जल की कमी, बेरोजगारी एवं जलवायु परिवर्तन आज की प्रमुख समस्याएँ हैं | इनके समाधान के विभिन्न उपायों में मशरूम की खेती एक विकल्प के रूप में आवश्यक है क्योकि मशरूम पौष्टिक एवं औषधीय गुणों से भरपूर, जलवायु परिवर्तन के साथ सामंजस्य, अत्यंत कम भूमि (खेती बिना खेत के ) एवं कम जल में इसका उत्पादन किया जा सकता है | कम अवधी की फसल होने के कारण इसे झोपड़ी या घर में साल में कई फसल आसानी से उगाई जा सकती है | इसके अलावा वर्टीकल्स स्पेस का उपयोग करके खेती का क्षेत्र बढ़ाया जा सकता है| आज मशरूम से सभी लोग परिचित है तथा इसका उत्पादन बिहार में 2000 टन पहुँच गया है तथा 20000 से ज्यादा परिवार इसकी खेती से जीविकोपार्जन कर रहे है | अत: भविष्य की चुनौतियो को ध्यान में रखकर मशरूम की व्यावसायिक खेती आदिवासी क्षेत्रों में आवश्यक हो गया है | खास तौर समाज के गरीब परिवार के लिए जो अशिक्षित एवं भूमिहीन है उनके लिए जीविकोपार्जन के लिए उत्तम साधन हैं| क्योकिं मशरूम, प्रोटीन का दाल, दूध एवं मांस से सस्ता विकल्प है |

मशरूम की खेती को बढ़ावा देने के लिए मशरूम की खेती करने की विधि, मशरूम बीज उत्पादन तकनीक, मास्टर ट्रेनर प्रशिक्षण, मशरूम उत्पादन और प्रसंस्करण इत्यादि विषयों पर किसानों को कृषि विश्वविद्यालयों और अन्य प्रशिक्षण संस्थाओं द्वारा पूरे वर्ष प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। मशरूम की खेती के लिए महिलाओं को अधिक प्रोत्साहित किया जा रहा है।

ये तो हुई मशरूम से संबन्धित कुछ बातें , हम बेबाक अड्डा पे आपको और भी जानकारी इस सिरीज़ में उपलब्ध करवाएँगे , हम विशेषज्ञों से आपको रूबरू जरूर करवाएँगे , बिहार और पूरे देश में खेती कैसे की जाती है, हम किस संस्था से जुड़ सकते हैं ,कुछ सवाल जो हमारे मन में उठते हैं जैसे की ,

क्या किसानों की आय दोगुना कर सकती है ये फसल ?

प्रगतिशील किसानों  को जागरूक करने के लिए सरकार क्या कर रही है ?

कौन कौन सी कंपनी हैं जो एंड तो एंड सोल्यूशंस किसानों को देती है ? फसल उगाने से ले के फसल को खरीदने की पूर्ण गारंटी लेती है ?

मशरूम की खेती कैसे की जाती  है ?

मशरूम के बाज़ार और प्रकार सब की जानकारी हम आपको आगे देने जा रहे हैं।  तो आइये हमारे एस श्रिंखला से  जुड़िये और मशरूम उगाइये |

हमारे विशेषज्ञ Satyam Brahmchari जी  ब्रह्मचारी हर्बल मशरुम फार्म एवं प्रशिक्षण केंद्र, डुमराव के प्रमुख हैं और बिहार तथा देश के अन्य राज्यों में बहूत सक्रिय योगदान निभा रहे हैं ,

118